मानो या ना मानो- भारत के कुछ अनकहे तथ्य – दि फिअरलेस इंडियन
Home / तथ्य / मानो या ना मानो- भारत के कुछ अनकहे तथ्य

मानो या ना मानो- भारत के कुछ अनकहे तथ्य

  • hindiadmin
  • August 21, 2017
Follow us on

भारत की संस्कृति और सभ्यता की अगर व्याख्या करने के लिए बैठा जाये, तो इसे चंद लाइनों, कुछ किताबों और किन्ही शास्त्रों में नहीं बांधा जा सकता. मार्क ट्वेन के शब्दों में अगर कहा जाये तो “भारत सभी भाषाओँ की जन्म-भूमि, इतिहास की मातृभूमि और विभिन्न सभ्यताओं के पिता सामान है, भारत का इतिहास सिर्फ़ एक इतिहास नहीं है बल्कि इसमें ज्ञान का खज़ाना भरा हुआ है”.

.तैरता हुआ डाकघर-
१,५५,०१५ डाकखानों के साथ भारत में दुनिया का सबसे बड़ा पोस्टल जाल है. जो सिर्फ़ खतों को ही नहीं बल्कि लोगों के प्यार को एक जगह से दूसरी जगह ले जाता है. इसीलिये भारतीय डाक घर अपनी शाखाएं जगह-जगह खोलता रहता है. इसी कर्म को आगे बढ़ाते हुए कश्मीर घाटी की डल झील में एक ऐसा पोस्ट ऑफिस खोला गया जो पानी पर तैरता है.

२.अंतरिक्ष से कुम्भ-
२०११ में हुए कुम्भ मेले के दौरान ७५ मिलियन श्रद्धालुओं ने शिरकत की थी, जिसे अंतरिक्ष से देखने पर कुछ इस कदर लगता है.

३.विश्व की सबसे ज़्यादा बारिश-
मेघालय के खासी हिल्स में बसा मॉसिनराम में दुनिया की सबसे ज़्यादा बारिश होती है, मेघालय के चेरापूंजी में भी सन १८६१ को सबसे ज़्यादा बारिश दर्ज़ की गई थी.

४.पृथ्वी को बांध दे, इतना तार-
बांद्रा-वर्ली का Sea-link का वजन ५०,००० अफ्रीकन हाथियों जितना है और इसे बनाने में २,५७,००,००० लोगों की मेहनत जुड़ी हैं. इंजीनिरिंग और आर्किटेक्चर के इस अद्भुत नमूने को बनाने में जितने तारों का इस्तेमाल किया गया है, उतने में पूरी धरती को बांधा जा सकता है.

५.शैम्पू भारत की देन-
आज भले ही बड़ी-बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियां तरह-तरह के शैम्पू उत्पाद लेकर आ रही हों, पर इसकी खोज भारत में ही हुई थी. बस केमिकल की जगह पहले जड़ी-बूटियों से सर पर मालिश की जाती थी.

६.वर्ल्ड कप भारत के नाम-
यह जानकर हैरानी ज़रूर होगी पर असलियत यही है कि कब्बडी के सभी वर्ल्ड कप अब तक भारत के नाम ही रहे हैं.

७.चांद पर पानी, भारत की देन-
इसरो के चन्द्रयान-१ ने २००९ में पहली बार चांद पर पानी की खोज में सफ़लता हासिल की थी.

८.स्विट्ज़रलैंड का विज्ञान दिवस पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम आज़ाद को समर्पित है-
भारत के राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम २६ मई २००६ को जब स्विट्ज़रलैंड की यात्रा पर वहां पहुंचे, तो स्विट्ज़रलैंड सरकार ने उस दिन को विज्ञान दिवस घोषित किया, जो डॉ.आज़ाद को समर्पित है.

९.पहले राष्ट्रपति लेते थे केवल आधी सैलरी-
डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जब देश के राष्ट्रपति नियुक्त हुए थे तब उन्होंने खुद के लिए केवल आधी सैलरी की ही मांग रखी थी.

१०.पहली मिसाइल साइकिल पर-
देश की पहली मिसाइल इतनी हल्की थी कि उसे साइकिल से थुम्बा लॉन्चिंग सेंटर, त्रिवन्न्तपुरम तक लाया गया था.

११.हाथियों के लिए स्पा-
केरला का पुन्नाथूर कट्टा एलीफैंट रेजुवेनेशन सेंटर हाथियों के लिए इकलौती ऐसी जगह है जहां इनकी मालिश करने के अलावा नहलाया और खिलाया जाता है.

१२.दूसरा सबसे ज़्यादा इंग्लिश बोलने वाला देश-
आज भले ही बहुत से देश अपनी साक्षरता दर को हमसे आगे बताते हों पर हकीकत यह है कि इंग्लिश के मामले में भारत केवल अमेरिका से पीछे हैं.

१३.सबसे ज़्यादा शाकाहारी-
इसके पीछे भले ही धार्मिक कारण हो या खुद की पसंद, पर भारत में 20%-40% शाकाहारी हैं.

१४.सबसे बड़ा दूध निर्यातक-
भारत एक कृषि प्रधान देश है, जहां पशुधन का अपना महत्व है जिसकी वजह से भारत दुनिया का सबसे बड़ा दूध निर्यातक देश है.

१५.चीनी से रूबरू करवाया-
भारत पहला देश था जिसने चीनी का आविष्कार किया था. चीनी बनाने की तकनीक यहीं से विदेशों में पहुंची थी.

१६. THE HUMAN CALCULATOR-
शकुन्तला देवी को यह उपाधि इसलिए दी गई थी क्योंकि १३ संख्या वाले नंबर ७,६८६,३६९,७७४,८७० × २,४६५,०९९,७४५,७७९ का जबाव उन्होंने मात्र २८ सेकंड में दिया था.

१७.बांग्लादेश का राष्ट्रगान भारतीय ने लिखा था-
गुरुदेव रबिन्द्रनाथ टैगोर ने केवल भारत का ही नहीं बल्कि बांग्लादेश का भी राष्ट्रगान लिखा था.

१८.मेजर ध्यानचंद को जर्मन नागरिकता-
बर्लिन ओलम्पिक १९३६, में जर्मनी को ८-१ से हराने वाले हॉकी के जादूगर ध्यानचंद को जर्मनी सरकार ने जर्मन नागरिकता प्रदान करने के अलावा मिलेट्री में ऊंची पोस्ट देने का प्रस्ताव रखा, जिसे मेजर ने ठुकरा दिया था.

१९.चांद से भी ‘सारे जहां से अच्छा, हिंदुस्तान हमारा’-
तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा से जब पूछा की चांद से इंडिया कैसा लगता है, तब राकेश का यही जबाव था कि ‘सारे जहां से अच्छा, हिंदुस्तान हमारा’.

२०.गिर के जंगल में पोलिंग बूथ-
महंत भारतदास दर्शनदास गिर के बनेज में रहने वाले एकमात्र वोटर हैं. सिर्फ़ उनके लिए ही चुनावों के दौरान यहां पोलिंग बूथ लगाया जाता है.

Comments

You may also like

मानो या ना मानो- भारत के कुछ अनकहे तथ्य
Loading...