मुस्लिमों को लेकर हामिद अंसारी के बयान पर भाजपा-शिवसेना नेताओं का पलटवार – दि फिअरलेस इंडियन
Home / समाचार / मुस्लिमों को लेकर हामिद अंसारी के बयान पर भाजपा-शिवसेना नेताओं का पलटवार

मुस्लिमों को लेकर हामिद अंसारी के बयान पर भाजपा-शिवसेना नेताओं का पलटवार

  • hindiadmin
  • August 10, 2017
Follow us on

देश के मुसलमानों में असुरक्षा संबंधी उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के बयान पर बीजेपी और शिवसेना नेताओं ने पलटवार किया है. बीजेपी नेताओं ने इस बयान को पद की गरिमा के खि‍लाफ बताया है तो शिवसेना ने इससे भी तीखी टिप्पणी करते हुए कहा है कि अगर उनको मुस्लिमों में असुरक्षा की भावना दिख रही थी, तो पहले ही इस्तीफा देकर जनता के बीच जाना चाहिए था.

क्यों नहीं दिया इस्तीफा-
उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के बयान पर शिवसेना ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि अगर हामिद अंसारी जी को मुस्लिमों में बेचैनी और असुरक्षा की भावना दिखती है तो इस विषय को लेकर उन्होंने पहले ही अपने पद से इस्तीफा क्यों नहीं दे दिया. अब जब वह जा रहे हैं, तब इस तरीके का बयान दे रहे हैं. उनको पहले ही इस्तीफा देकर जनता के बीच मे जाना चाहिए. संजय राउत ने कहा कि अल्पसंख्यक मुस्लिम के लिए देश मे बहुसंख्यक हिंदुओं को गलत नजरिए से देखा जाता है. देश की पूरी मशीनरी मुस्लिमों की सुरक्षा में लगा दी गई है.

क्या कहा है हामिद अंसारी ने-
गौरतलब है कि निवर्तमान उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने एक इंटरव्यू में कहा कि देश के मुस्लिमों में बेचैनी का अहसास और असुरक्षा की भावना है. उपराष्ट्रपति के तौर पर ८० साल के अंसारी का दूसरा कार्यकाल गुरुवार को पूरा हो रहा है. उन्होंने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है जब असहनशीलता और कथित गोरक्षकों की गुंडागर्दी की घटनाएं सामने आई हैं. हामिद अंसारी ने कहा कि उन्होंने असहनशीलता का मुद्दा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके कैबिनेट सहयोगियों के सामने उठाया है. उन्होंने इसे ‘परेशान करने वाला विचार’ करार दिया कि नागरिकों की भारतीयता पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

भारत जितनी आजादी कहीं और नहीं-
बीजेपी नेता गिरीराज सिंह ने कहा कि पूरी दुनिया में भारत के नागरिकों से ज़्यादा कोई सुरक्षित नहीं है. उन्होंने कहा, ‘यहां कोई कुछ भी कह सकता हैं, कोई भी पत्थरबाजों का समर्थन कर सकता हैं, कोई भी अलगाववादियों का समर्थन कर सकता हैं. यहां आधी रात को आतंकियों के लिए कोर्ट खुल सकते हैं, इसलिए भारत में हिंदू और मुसलमान सभी सुरक्षित हैं. भारत जैसा देश कोई नहीं मिलेगा. भारत जैसा अभिव्यक्ति की आज़ादी वाला देश नहीं मिलेगा. भारत में जो चाहे किसी को गाली दे दे. लेकिन भारत में रहना है तो क़ानून एक ही होगा. अयोध्या पर एक क़ानून और ट्रिपल तलाक़ पर दूसरा क़ानून, भारत में ये नहीं चलेगा.

यह देश संविधान से चलता है-
बीजेपी नेता साक्षी महाराज ने भी कहा कि वह हामिद अंसारी के बयान से सहमत नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘भारत में जितने मुसलमान सुरक्षित हैं, दुनिया में कहीं भी नहीं हैं. देश में जबसे मोदी जी प्रधानमंत्री बने हैं, कोई भी साम्प्रदायिक दंगा नहीं हुआ.  जबसे योगी जी मुख्यमंत्री बने हैं यूपी में भी कोई दंगा नहीं हुआ है. हालांकि पत्थर फेंकने वाले, बम फेंकने वाले आतंकवादी सुरक्षित नहीं हैं. ये दुर्भाग्य की बात है कि वे (हामिद अंसारी) तीन साल तक मौज मारते रहे, जब कुर्सी से विदाई का समय आ गया, तो उन्हें मुसलमान असुरक्षित लगने लगा है, इससे बड़ा दुर्भाग्य कुछ नहीं हो सकता है. मुझे लगता है कि वे किसी पार्टी की सदस्यता लेने वाले हैं, इसलिए इस तरह के बयान दे रहे हैं. ये देश संविधान से चलेगा न कि फ़तवों से और किसी के विचारों से चलेगा.

पद की गरिमा के अनुकूल नहीं ऐसे बयान-
बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने भी हामिद अंसारी के बयान से असहमति जताई. उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि देश के शीर्ष पद पर बैठकर इस तरह का बयान देना ठीक नहीं है. मैं उनके बयान से सहमत नहीं हूं. तीन-चार घटनाओं के आधार आकलन करना ठीक नहीं हैं. ऐसे हज़ारों उदाहरण मिल जाएंगे कि हिन्दू-मुसलमान मिलकर एक साथ रहते हैं. अगर इस तरह से आप नकारात्मक दृष्टि से देश आकलन करेंगे तो देश के साथ न्याय नहीं करेंगे. लगता है कि इस तरह के बयान करके वो भविष्य में राजनीतिक सम्भावनाओं को तलाश रहे हैं. किसी शीर्ष पद पर बैठ व्यक्ति से इस तरह के हलके बयान की उम्मीद नहीं की जा सकती है. इस तरह के बयान देना शीर्ष पद की गरिमा को गिराना है.

Comments

You may also like

मुस्लिमों को लेकर हामिद अंसारी के बयान पर भाजपा-शिवसेना नेताओं का पलटवार
Loading...