धोनी की ख़राब बल्लेबाजी को लेकर की थी आलोचना, आज होंगी सबकी नजरें उनपर.. – दि फिअरलेस इंडियन
Home / मनोरंजन / धोनी की ख़राब बल्लेबाजी को लेकर की थी आलोचना, आज होंगी सबकी नजरें उनपर..

धोनी की ख़राब बल्लेबाजी को लेकर की थी आलोचना, आज होंगी सबकी नजरें उनपर..

  • hindiadmin
  • June 27, 2019
Follow us on

अफगानिस्तान के खिलाफ धीमी पारी खेलने के कारण महेंद्र सिंह धोनी को लेकर टीम इंडिया चिंतित है। भारत का सेमीफाइनल में जाना लगभग तय हो चुका है, लेकिन गुरुवार को वेस्टइंडीज के जीत हासिल कर अपनी स्थिति मजबूत करने उतरेगी और इस मैच में सबकी नजरें एमएस धोनी पर होंगी। जिन्हें इन दिनों अफगानिस्तान के खिलाफ धीमी बल्लेबाजी करने की वजह से आलोचकों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि भारत के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने दिग्गज विकेटकीपर-बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी का बचाव किया है।   

“मैच में भले ही कुछ भी हुआ हो लेकिन इस बात में कोई शक नहीं हैं कि महेंद्र सिंह धोनी एक बहुत ही उम्दा बल्लेबाज हैं। इस साल धोनी ने अपने प्रदर्शन से इस बात को एक बार फिर से साबित भी किया हैं। अफगानिस्तान के खिलाफ वह जरुर संघर्ष करते नजर आये, लेकिन वह बस एक मैच था।”

सचिन तेंदुलकर समेत कई खिलाड़ियों ने इस धीमी पारी के कारण धोनी की आलोचना की, लेकिन गांगुली मानते हैं कि ऐसा सिर्फ एक बार हुआ है और टूर्नामेंट के बाकी बचे मैचों में वह टीम के बहुत काम आएंगे।

Related image

सौरव गांगुली भले ही महेंद्र सिंह धोनी का बचाव करते नजर आये हो, लेकिन मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर एमएस धोनी की पारी के बाद काफी निराश नजर आये थे। धोनी की 28 रनों की पारी के बाद सचिन ने अपने बयान में कहा था…

“मुझे थोड़ी निराशा हुई, यह कुछ और बेहतर हो सकता था। मैं केदार और धोनी के बीच हुई साझेदारी से भी निराश हूँ, जो साझेदारी दोनों के बीच देखने को मिली वह काफी धीमी थी। हमने 34 ओवर स्पिन गेंदबाजी का सामना किया लेकिन सिर्फ 119 रन बना सके।”

अफगानिस्तान के खिलाफ धोनी ने 52 गेंदों पर 28 रन बनाए थे। जिसके बाद उनकी स्ट्राइक रेट और स्ट्राइक रोटेट करने की नाकामी लेकर सचिन तेंदुलकर ने भी उनकी ओलाचना की थी। धोनी मिडिल ओवर्स में सिंगल लेने में बुरी तरह फेल रहे थे।

Image result for महेंद्र सिंह धोनी

अब धोनी के इस साल के प्रदर्शन की बात करें तो धोनी ने 2019 में 50 से ज्यादा की औसत से 12 पारियों में 417 रन ठोक चुके हैं। जिसमें 4 अर्धशतक भी शामिल हैं. हालांकि उनका स्ट्राइक रेट 78.38 रहा है, जो उनके करियर स्ट्राइक रेट(87.47) से काफी कम है।

अपनी कप्तानी ने भारत को 2011 में विश्व विजेता बनाने वाले धोनी का यह चौथा विश्व कप है। अब देखना यह होगा की आज के मैच में महेंद्र सिंह धोनी अपने बल्ले से आलोचकों को करारा जवाब देंगे या नहीं।    

Comments

You may also like

धोनी की ख़राब बल्लेबाजी को लेकर की थी आलोचना, आज होंगी सबकी नजरें उनपर..
Loading...