‘कुछ भी’ करना है तो शौचालय जाएं, ‘सोशल प्‍लेटफॉर्म गंदा न करें अभिजीत भट्टाचार्य को हरिहरन की सलाह – दि फिअरलेस इंडियन
Home / मनोरंजन / ‘कुछ भी’ करना है तो शौचालय जाएं, ‘सोशल प्‍लेटफॉर्म गंदा न करें अभिजीत भट्टाचार्य को हरिहरन की सलाह

‘कुछ भी’ करना है तो शौचालय जाएं, ‘सोशल प्‍लेटफॉर्म गंदा न करें अभिजीत भट्टाचार्य को हरिहरन की सलाह

  • Shyam kadav
  • June 1, 2017
Follow us on

अभिजीत भट्टाचार्य आज कल सोशल नेटवर्किंग साईट पर बेहत ही एक्टिव है. कश्मीर के पत्थरबाज और उनका समर्थन करने वालों पर वह कड़ी शब्दों में निंदा कर चुके है. हाल ही में लेखिका अरुंधती राय और जेएनयू छात्रसंघ की नेता शेहला राशिद पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. अभिजीत की इन टिपण्णीओं के विरोध में जहां सिंगर सोनू निगम समेत कई लोग समर्थन में उतर गए. लेकिन तथाकथित सेक्युलर लोग इसका विरोध कर रहे है. उन में से गायक हरिहरन ने अभिजीत के सोशल मीडिया पर प्रयोग की भाषा का विरोध किया है.

फिल्‍म इंडस्‍ट्री में ४८ साल पूरे कर चुके गायक हरिहरन ने बताया, हम जिस भाषा का इस्‍तेमाल अपने ड्रॉइंग रूम में करते हैं, उसे सड़क पर नहीं बोलते. हम पब्लिक में बात करते हुए अपनी भाषा पर विशेष ध्‍यान रखते हैं. ऐसे ही आप सोशल मीडिया पर किसी भी भाषा का इस्‍तेमाल नहीं कर सकते. उन्‍होंने कहा, अगर आपको कुछ भी करना है तो आप टॉयलेट का इस्‍तेमाल करिए, आप प्‍लेटफॉर्म गंदे नहीं कर सकते. यह बयान करने वाले हरिहरन को यह पता नहीं की उनका यह बयान आने की वजह क्या है.


बीजेपी नेता और एक्‍टर परेश रावल ने मशहूर लेखिका अरुंधति रॉय को लेकर आपत्तिजनक ट्वीट किया था. उसी ट्वीट का समर्थन करते हुए अभिजीत भट्टाचार्य ने उसे रीट्वीट करते हुए लिखा कि अरुंधति रॉय को कश्मीर में सेना द्वारा जीप में बांध कर घुमाया जाना चाहिए. और इस बात पर ट्विटर इंडिया ने उनका ट्विटर अकाउंट सस्‍पेंड कर दिया. लेकिन वहीं अभिजीत के बचाव में दूसरे ही दिन प्‍लेबैक सिंगर सोनू निगम उतर गए और उन्‍होंने अपना ट्विटर अकाउंट खुद ही डिलीट कर लिया था.


मध्‍यप्रदेश में चल रही नर्मदा सेवा यात्रा के लिए एक गीत गाने वाले गायक हरिहरन ने इस मुद्दे पर आगे बात करते हुए कहा, ‘इस देश में सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है, आप भी कह सकते हैं. लेकिन मुझे लगता है कि हमें सोशल मीडिया में अपनी भाषा पर संयम रखना चाहिए. मुझे लगता है कि यही मायने रखते हुए सही भाषा का भी इस्‍तेमाल किया जा सकता था. सेलेब्रिटीज को हमारे देश में सुना जाता है, उन्‍हें लोग फॉलो भी करते हैं. ऐसे में यह हमारी जिम्‍मेदारी बन जाती है कि हम किस भाषा का इस्‍तेमाल करें.’

Comments

You may also like

‘कुछ भी’ करना है तो शौचालय जाएं, ‘सोशल प्‍लेटफॉर्म गंदा न करें अभिजीत भट्टाचार्य को हरिहरन की सलाह
Loading...