जानिए मुद्रा नोटों पर महात्मा गांधी के छवि का इतिहास… – दि फिअरलेस इंडियन
Home / तथ्य / जानिए मुद्रा नोटों पर महात्मा गांधी के छवि का इतिहास…

जानिए मुद्रा नोटों पर महात्मा गांधी के छवि का इतिहास…

  • hindiadmin
  • November 12, 2016
Follow us on

इसके पीछे का इतिहास सिर्फ यह है की जब महात्मा गांधी और लॉर्ड पेथिक-लॉरेंस कोलकाता के वाइसराय हाउस में एक दूसरे से मिले थे तब यह फोटो लिया गया था। पेथिक-लॉरेंस तब ब्रिटिश सचिव थे। गांधीजी की तस्वीर को बाद में सभी मुद्रा नोटों में चित्र आकार छवि के रूप में इस्तेमाल किया गया था और हमारी मुद्रा में छपाई करते समय वास्तविक तस्वीर को प्रतिबिंबित किया गया था।
HD image of old currency notes साठी प्रतिमा परिणाम
१९९६ में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने एक नए महात्मा गांधी की (एमजी) श्रृंखला पेश की। महात्मा गांधी की तस्वीर जो आज हम मुद्रा नोटों पर देखते हैं, केवल १९९६ के बाद से अस्तित्व में आई। हालांकि, महात्मा गांधीजी की छवि को पहलेसे भारतीय रुपए नोटों पर चित्रित नहीं किया गया था। १९९६ के पहले के नोटों पर भारत के कई पहलुओं पर आधारित चित्रण किया गया था। उनमें से कुछ बंगाल टाइगर श्रृंखला, मयूर श्रृंखला, आर्यभट्ट उपग्रह श्रृंखला, कृषि श्रृंखला, शामिर बाग श्रृंखला और आदि हैं।

संबंधित प्रतिमा

८ नवंबर २०१६ को भारत सरकार ने ५०० और १००० रुपये के नोट नोटों का पुनर्मुद्रण किया। ९ नवंबर २०१६ को भारत में कानूनी निविदा के रूप में सभी ५०० और १००० रुपये के नोटों की स्वीकृति को बंद कर दि गई। यह घोषणा भारत के प्रधान मंत्री द्वारा उसी दिन ८:१५ बजे भारतीय जनता के लिए एक दूरदर्शन के द्वारा की गई थी। घोषणा में, मोदी ने महात्मा गांधी श्रृंखला के सभी ५०० और १००० रुपये के बैंकनोट्स (लगभग ७.५० डॉलर और १५ डॉलर यूएसडी क्रमशः) को अवैध घोषित किया और पुराने नोटों के बदले नए महात्मा गांधी श्रृंखला के नए ५०० और २००० रुपये के नोट (लगभग ७.५० डॉलर और ३० डॉलर यूएसडी क्रमशः) जारी करने की घोषणा की।
और साथ ही उस सरकार ने महात्मा गांधी की मूल तस्वीर को सुनिश्चित करने के बाद पूरी तरह से नई सुविधाओं के साथ नई श्रृंखला पर काम करने का फैसला किया।

नए २००० के बैंक नोट की सुरक्षा विशेषताएं इस प्रकार हैं :
-अंकों के साथ संख्याएं जो ऊपर से बायीं तरफ और नीचे दायें किनारे पर छोटे से बड़े होते हैं!
-सांकेतिक अंक २००० के साथ देखें-थ्रू रजिस्टर।
-सांप्रदायिक अंक २००० के साथ अव्यक्त छवि।
-देवनागरी में वंशावली संख्या २०००।
-बैंक नोट के बाईं ओर सूक्ष्म अक्षर में ‘आरबीआई’ और ‘२०००’ लिखा है।

संबंधित प्रतिमा

नए ५००  बैंक नोट की सुरक्षा विशेषताएं इस प्रकार हैं:
-महात्मा गांधी चित्रण की इटैग्लियो प्रिंटिंग
-ब्लीड लाइनें
-पहचान चिह्न जो नेत्रहीन व्यक्तियों को संप्रदाय की पहचान करने में सक्षम बनाता है।

Comments

You may also like

जानिए मुद्रा नोटों पर महात्मा गांधी के छवि का इतिहास…
Loading...