१७६ सालों से बोतल में बंद है कटा हुआ सिर…! – दि फिअरलेस इंडियन
Home / तथ्य / १७६ सालों से बोतल में बंद है कटा हुआ सिर…!

१७६ सालों से बोतल में बंद है कटा हुआ सिर…!

  • Shyam kadav
  • June 28, 2017
Follow us on

प्राचीन मिस्र में इंसानों के शवों को प्रीज़र्व किया जाता था. जिनकी ममी अभी भी आये दिन मिलती रहती है. लेकिन आप को जानकर आश्चर्य होगा की पुर्तगाल में डीओगो अल्वेस नाम के एक सिरिअल किलर का सिर करीबन १५० सालों से प्रीज़र्व है. डीओगो अल्वेस नोकरी की तलाश में लिस्बन आया था. लेकिन बन गया था पुर्तगाल का सबसे खूंखार सिरिअल किलर.

डीओगो का जन्म सन १८१० में स्पेन के गॅसेलिया में हुआ था. वह जवानी के दिनों में काम के तलाश में पुर्तगाल की लिस्बन सिटी आया था. डीओगो ने काफी समय तक काम की तलाश की लेकिन नाकामियाब रहा और इसीके चलते उसने क्राईम की दुनिया में कदम रख लिया. डीओगो ने सबसे पहले लुट पाट का रास्ता अपनाया. जिसके आसान शिकार किसान हुआ करते थे. और इस के लिए डीओगो ने लिस्बन बने एक नदी पर बने पुल को चुना जिसपर से शाम के बाद अकसर किसान आनाज और सब्जिया बेचकर अपने गाव लौटा करते थे. डीओगो अल्वेस जैसेही किसी अकेले किसान को गुजरते हुए देखता था तो लुट के लिए उसका मर्डर कर देता था और लाश नदी में फेंक देता था. डीओगो ऐसे दर्जनों किसानों को मौत के घाट उतरा था. जब पुलिस के पास गायब हो रहे किसानों की खबर पहुंची तो उन्हें लगा की आर्थिक तंगी के कारण किसान आत्महत्या कर रहे है. लेकिन नदी से कुछ ऐसे भी शव मिले जिनके ऊपर नुकीले हतियार के घाव थे. और इस से पुलिस को शक हुआ की किसानों की हत्या की जा रही है. ऐसे में पुलिस ने जब जाँच कर ली तब डीओगो अल्वेस ने लूटपाट बंद करा दी और तिन साल तक अंडरग्राउंड रहा. इसके बाद उसने फिर से लूटपाट शुरू की.

डीओगो अल्वेस  छोटी लुट पर संतुष्ट नहीं और उसने समज लिया की अगर वह अकेला रहा तो वह बड़ी लुट नहीं पायेंगा और उसके पकडे जाने का खतरा भी बना रहेगा इसी के चलते उसने ऐसे लोगों को तलाशन शुरू कर दिया जो बेहत करीब थे. ऐसा करके उसने दर्जनों लोगों की गैंग बना ली और बड़ी बड़ी वारदातों को अंजान देना शुरू किया. डीओगो अल्वेस इसके लिए काफी मात्र ममे हतियार भी खरीद लिए थे. इससे की वह पुलिस का भी सामना कर सके. करीबन एक साल तक डीओगो ने दर्जनों लोगों को मौत के घाट उतार दिया. लिस्बन पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक उसे लोगों को मारने में मजा आता था. पुलिस को डीओगो के गैंग के बारेमे पता चल गया था. पुलिस के मुताबिक डीओगो को लोगों को मारने में मजा आता था. वह अपने गैंग के साथ जंगल में छुपा रहता था. इसी लिए पुलिस को उसके लोकेशन के बारेमे पता नहीं चलता था. और इसी कारण डीओगो ने लिस्बन में अपने सथिदारों के साथ एक डॉक्टर के घर पे दावा बोल दिया. लुट के बाद उसने डॉक्टर का भी बेरहमिसे क़त्ल कर दिया और और फरार हो गया.

डीओगो जब फांसी दी गयी तब वहा मतिश्क विज्ञानं एक प्रसिद्ध विज्ञानं हुआ करता था. फेनोलोजी मतलब इन्सान की उन कोशिकाओं की जाँच करना जिनमे इन्सान की व्यक्तित्व का पता लगाया जा सकता है. इसके लिए वैज्ञानिकों को इंसानी सिरों की जरुरत लगती थी. और इसी के चलते पुर्तगाल के वैज्ञानिकों ने कोर्ट से डीओगो सिर लेने की अपील कर दी. इस तरह फंसी के बाद डीओगो का सिर काटकर पिज़र्व कर दिया.

 

 

Comments

You may also like

१७६ सालों से बोतल में बंद है कटा हुआ सिर…!
Loading...