क्या कोई बाबा बन सकता है करोड़ों का मालिक? – दि फिअरलेस इंडियन
Home / विचार / क्या कोई बाबा बन सकता है करोड़ों का मालिक?

क्या कोई बाबा बन सकता है करोड़ों का मालिक?

  • hindiadmin
  • August 28, 2017
Follow us on

रेप केस में दोषी करार दिए गए बाबा राम रहीम को कल कोर्ट सजा सुनाएगी. बता दें कि राम रहीम पर फैसले के बाद हुई हिंसा में अब तक ३८ लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, सेना और प्रशासन बाबा के डेरे और आश्रमों को सील करने में जुटी हुई है.

कौन है गुरमीत राम रहीम सिंह?
गुरमीत राम रहीम का जन्म १५ अगस्त, १९६७ को राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के गुरुसर मोडिया में जाट सिख परिवार में हुआ था. जब ये सात साल के थे तो ३१ मार्च, १९७४ को तत्कालीन डेरा प्रमुख शाह सतनाम सिंह ने इन्हें नाम दिया था. २३ सितंबर, १९९० को शाह सतनाम सिंह ने गुरमीत सिंह को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया. वही राम रहीम आज करोड़ो का मालिक बन चूका है. राम रहीम का डेरा इतना आलीशान है कि यहां दुनिया की लगभग हर लग्जरी चीज मिलेगी.

क्या-क्या है राम रहीम के डेरे में
आपको यह जानकार हैरानी होगी कि राम रहीम के डेरे में होटल, रिजॉर्ट, स्पा से लेकर हेल्थ क्लब जैसी तमाम सुविधाएं मौजूद हैं. इसके अलावा पानी के अंदर रेस्तरां, एंटरटेनमेंट पार्क, सिनेमा हॉल, पेट्रोल पंप, सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल, आईटी कॉलेज, गर्ल्स कॉलेज, इंटरनेशनल स्कूल भी हैं.

२३ एकड़ में है खेल गांव: 
यही नहीं, २३ एकड़ में एमएसजी खेल गांव है. जिसमें अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, लॉन टेनिस क्ले कोर्ट व सिंथटिक कोर्ट, रोलर स्केटिंग स्टेडियम, वालीबॉल, हॉकी, बॉस्केटबॉल, फुटबॉल, हैंडबॉल, जिम्नास्टिक, गन शूटिंग, नेटबॉल स्टेडियम आदि हैं.

हैलीपैड से लेकर महंगी कारों के लिए गैराज:
डेरा में सौ स्क्वेयर मीटर में राम रहीम का सत्संग हॉल है. इसके अलावा आश्रम के अंदर हेलीपैड, जहां सिर्फ रामरहीम या किसी वीआईपी का हेलिकॉप्टर उतरता था. महंगी स्पोर्ट्स बाइकों के अलावा गैराज में मर्सडीज, बीएमडब्ल्यू, ऑडी, लेक्सस और टोयोटा जैसी महंगी कारें भी.

ऐसा कोई बिज़नेस नहीं जो राम रहीम ने किया नहीं:
राम रहीम के बिजनेस के बारे में सुनकर हर कोई चौंक जाता है. सबसे पहले बाबा ने अपने नाम के कैलेंडर छापने का बिजनेस शुरू किया. फिर सत्संग की सीडी, तस्वीरें, लॉकेट बनाए. आज ऐसा कोई प्रोडक्ट नहीं बचा जो राम रहीम न बनाते हों. पतंजलि की तरह राम रहीम की भी प्रोडक्ट चेन है. बाबा का कारोबार यही नहीं रुकता. उनका होटल, स्कूल, कॉलेज, मॉल के अलावा खुद का फिल्मों का बिजनेस और प्रोडक्शन स्टूडियो भी है. इसके अलावा बाबा का खुद का दैनिक अखबार, मासिक पत्रिका, चैनल भी है.

राम रहीम और राजनीती:
अपने यहां लोगों में धर्म और आध्यात्म की भूख इतनी है कि बाबाओं का पनपना आम है. लेकिन कम ही बाबा ऐसे होंगे जिनके अनुयायी उन्हें ‘पिताजी’ कहते हों. ये बात कहने भर की नहीं है. रेप केस में फैसला आने को था तो उनके अनुयायियों ने साफ कहा कि राम रहीम को ‘कुछ हुआ’ तो वो कुछ भी कर गुज़रेंगे. इन कट्टर अनुयायियों की संख्या लाखों में है. डेरा अपनी ओर से इनकी संख्या करोड़ों में बताता है.

और अब जहां इतने कट्टर समर्थकों का एक बड़ा बेस हो वहां राजनेता ना हो ऐसा हो ही नहीं सकता. राम रहीम ने भी राजनेताओं से दूर रहने का कोई प्रयास नहीं किया. इस बार के हरियाणा और पंजाब विधानसभा चुनावों में डेरा सच्चा सौदा ने राजनैतिक पार्टियों का खुलकर समर्थन करने का ऐलान किया था. राम रहीम की ‘गुफा’ के अंदर जाने वाले बताते हैं कि वहां कई बड़े नेताओं राम रहीम के चरण छूते कई फोटो हैं. इसमें लगभग सभी पार्टियों के नेता हैं. अगर ये राजनैतिक पार्टिया ऐसे लोगों का समर्थन करेगी है तो बाबा राम रहीम जैसे लोग क्यों नहीं खुलेआम हिंसा पर उतर आएंगे. हमारे सिस्टम ने क्यों इन लोगों को इतनी छुट देके रखी है? इतने सालों बाद आज इस बलात्कारी को सजा सुनाई जाएगी. इतने साल क्यों लग गए इन्हें सजा सुनाने में? बाबा राम रहीम के पास कहा से आयी इतनी संपत्ति? इन जैसे हजारों सवाल खड़े होते है. लेकिन जवाब देने वाला कोई नहीं. सब चुप्पी साधे बैठे है.

क्या आपका नहीं लगता, गुरमीत राम रहीम उसके किए की सजा कुछ साल पहले ही मिलनी चाहिए थी?

Comments

You may also like

क्या कोई बाबा बन सकता है करोड़ों का मालिक?
Loading...