नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोगों के लिए पीएम मोदी की सौगात – दि फिअरलेस इंडियन
Home / समाचार / नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोगों के लिए पीएम मोदी की सौगात

नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोगों के लिए पीएम मोदी की सौगात

  • hindiadmin
  • April 16, 2018
Follow us on

बाबासाहब भीमराव अंबेडकर की जन्मजयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी छ्त्तीसगढ की यात्रा पर हैं। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी की यह चौथी बार छत्तीसगढ़ आए हैं लेकिन छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिले बीजापुर में आने वाले नरेन्द्र मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं। यहां आते ही पीएम ने एक मेहनतकश महिला को अपने हाथ चप्पल पहनाकर सबका दिल जीत लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने यहां एक के बाद एक कई योजनाओं-परियोजनाओं का शुभारंभ और शिलान्यास किया।

उन्होंने एक तरफ बस्तर क्षेत्र को रेल नेटवर्क, सड़क मार्ग और इंटरनेट की सौगात दी तो यहीं से स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में विश्व की सबसे बड़ी योजना आयुष्मान भारत की शुरुआत की है। कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पीएम मोदी को पारंपरिक पोशाक और गौर मुकुट भेंट की। बीजापुर के जांगला के मंच से पीएम ने स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में विश्व की सबसे बड़ी योजना आयुष्मान भारत की शुरुआत की। इसके तहत देश के पहले हेल्थ केयर एंड वेलनेस सेंटर का शुभारंभ किया।

बस्तर इंटरनेट योजना के पहले चरण का प्रधानमंत्री ने शुभारंभ किया। इस योजना के तहत आदिवासी क्षेत्र के सात जिलों में फाइबर ऑप्टिक्स केबल के 40,000 किलोमीटर लंबे नेटवर्क को बिछाया जाएगा। ये जिले बीजापुर, नारायणपुर, बस्तर, कांकेर, कोंडागांव, सुकमा और दंतेवाड़ा हैं। इस योजना के तहत जांगला ग्रामीण बीपीओ संचालित है।

रेल मंत्रालय ने भी नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र को गुदुम और भानुप्रतापपुर के बीच एक नई रेल लाइन और एक यात्री ट्रेन दिया। नई रेल लाइन का उद्घाटन प्रधानमंत्री मोदी ने किया जबकि यात्री ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस उद्घाटन के साथ ही उत्तर बस्तर क्षेत्र रेलवे के मानचित्र पर आ गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने यात्री ट्रेन के बारे में बताया कि इस ट्रेन के संचालन की जिम्मेदारी रेल की महिला कर्मचारियों पर है, चालक से लेकर हर स्टाफ इसमें महिलाएं हैं। यह हमारे लिए सौभाग्य की बात है कि हमारी बेटियां इन जंगलों में ट्रेन लेकर जाएंगी। रेल इस क्षेत्र के विकास की गाथा में नया अध्याय जोड़ेगा, जिंदगी में बदलाव लाएगा।

चरण-पादुका योजना के तहत पीएम ने एक आदिवासी महिला रत्नी बाई को चप्पलों का एक जोड़ा दिया। पीएम मोदी स्वयं अपने हाथों से महिला को चप्पल पहनाया। इस योजना के तहत तेंदू पत्ता बीनने वाली आदिवासी महिलाओं को चप्पलें दी जानी हैं जिससे वह जंगलों में आसानी से चल सकें।

इसी कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने 1,700 करोड़ रुपये की सड़क और पुल परियोजनाओं की भी नींव रखीं। आयुष्मान भारत योजना के तहत सरकार का मकसद वर्ष 2022 तक 1.5 लाख स्वास्थ्य और वेलनेस केंद्र खोलना है, जहां रक्त चाप, मधुमेह, कैंसर और वृद्धावस्था जनित रोगों समेत कई बीमारियों का इलाज किया जाएगा। इस योजना के तहत सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (एनएचपीएस) की व्यापक रूपरेखा तैयार की है और लाभार्थियों की पहचान करने के मापदंड तय करने का काम चल रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने बाबासाहब की जयंती के मौके पर ‘ग्राम स्वराज अभियान’ की भी शुरुआत की, जो 5 मई तक चलेगी। इसके तहत एससी, एसटी बहुल गांव में जन कल्याण योजनाओं को तेजी से आगे बढ़ाने पर जोर दिया जायेगा। देशभर में करीब 21,058 गांव है जहां एससी, एसटी समेत दलितों की आबादी 50 प्रतिशत से अधिक है। इन गांवों में केंद्रीय मंत्री, भाजपा सांसद, भाजपा विधायक व अन्य प्रतिनिधि शिविरों का आयोजन करेंगे और सरकार की योजना को लेकर विस्तृत जानकारी साझा करेंगे। इसमें मुख्य रूप से गरीब कल्याण से जुड़ी उज्ज्वला योजना, मिशन इन्द्रधनुष, प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना, उजाला, प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना को शत प्रतिशत लागू करने पर जोर दिया जाएगा।

Comments

You may also like

नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोगों के लिए पीएम मोदी की सौगात
Loading...