‘रइस’ की “लैला गर्ल” को अब चिंता करने की है जरूरत । – दि फिअरलेस इंडियन
Home / मनोरंजन / ‘रइस’ की “लैला गर्ल” को अब चिंता करने की है जरूरत ।

‘रइस’ की “लैला गर्ल” को अब चिंता करने की है जरूरत ।

  • hindiadmin
  • February 10, 2017
Follow us on

अभिनेत्री सनी लियोन को अब पुलिस का सामना करना होगा। कई पार्टियों में ‘लाइक्स स्कैम’ के आरोपी के साथ अभिनेत्री की उपस्थिति को पुलिस ने उसके पास बताया है। नोएडा पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, उन्होंने आरोपी अनुभव मित्तल के कार्यालय से कई वीडियो टेप जब्त किए थे, सनी अक्सर कई पार्टियों और कार्यक्रमों में रही है। घटनाक्रम मित्तल की जन्मदिन की पार्टी और फिर नोएडा के क्राउन होटल में २९ नवंबर, २०१६ को, जहां उन्हें आरोपी के ई-कॉमर्स प्रमोशन पार्टी में देखा गया था। आरोपी ने पुलिस को बताया कि दोनों मौकों पर उसने अपनी उपस्थिति के लिए तीन बार शुल्क लगाया था।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि वे मामले की जांच कर रहे हैं और अगर उन्हें सनी की भागीदारी मिलती है, तो वे उसे फोन करेंगे पिछले हफ्ते नोएडा पुलिस ने मित्तल को गिरफ्तार कर लिया था, जिन्होंने पौंज़ी योजना शुरू की थी और ६ लाख से अधिक लोगों को सोशल मीडिया पर ‘पसंद’ बटन को दबाने के लिए उन्हें रिटर्न देने का वादा करके ३७०० करोड़ रुपये का शिकार करने में कामयाब रहा था। एक वर्ष के भीतर २६ वर्षीय बीटेक स्नातक और उनके दो साथी नोएडा में चार मंजिला कार्यालय खोलने में कामयाब रहे। नोएडा से एसटीएफ ने इस रैकेट का और अनुभव मित्तल को ४० साल के श्रीधर प्रसाद, एमबीए, और २५ साल के महेश दयाल के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर ६३ में के एक कार्यालय से उनका पर्दाफाश किया, जो तकनीकी सहायता के रूप में काम करता था। उन्होनें अबलाज़ इन्फो सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड नामक एक नकली कंपनी बनाई थी, जो वहां से संचालित होती थी। एसटीएफ अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने कार्यालय पर छापा मारा जहां उन्हें २५० पासपोर्ट मिले, और कंपनी के कर्मचारी, जिन्हें ऑस्ट्रेलिया की यात्रा के साथ पुरस्कृत किया जाना था।

जांच में पाया गया की केनरा बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, यस बैंक और एक्सिस बैंक ऐसे १२ खातों में कंपनी ने पंजीकृत करके ५२० करोड़ रुपये जमा किए थे। अधिकारी कंपनी की बैलेंस शीट की जांच कर रहे हैं, निवेशकों की जानकारी, और बैंक खाते जिसमें धन हस्तांतरित किया गया था। पिछले दो सालों में कॉल सेंटर धोखाधड़ी की एक श्रृंखला का पर्दाफाश किया गया लेकिन यह पोंजी योजना के लिए ‘जैसे-व्यापार’ का इस्तेमाल करने वाले प्रकाश में आने वाला पहला रैकेट है और इस पैमाने पर एक धोखाधड़ी का आयोजन किया है। उन कंपनियों के बीच पसंदीदा खरीदना सामान्य है, जो सोशल मीडिया पर बेहतर दिखना चाहते हैं। यही मित्तल का सामाजिक व्यापार अपने धागे को स्पिन करने के लिए प्रयोग किया जाता था – निवेशकों को बताया गया था कि डिजिटल प्लेटफॉर्म पर उत्तरार्द्ध के ऑनलाइन हिट को बढ़ाने के लिए कंपनी को तीसरी पार्टी से व्यवसाय मिला था। ‘सदस्यता योजना’ के आधार पर निवेशकों को अपने फोन पर २५, ५०, ७५ और १२५ यूआरएल हर दिन के लिए दिए गए थे।

एसटीएफ के वरिष्ठ अधीक्षक अमित पाठक ने कहा कि तीनों ने २०१५ में एक सामाजिक योजना को पिरामिड योजना के रूप में लॉन्च किया था, लोगों को बताते हुए कि वे घर से बैठकर कमा सकते हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने प्रदान की गई पसंद के आधार पर ५,७५० रुपये से लेकर ५७,५०० रुपये तक की सदस्यता राशि वाले लोगों का नामांकन किया है। निवेशकों को एक यूजर आईडी और पासवर्ड दिया गया था और कहा कि वे अपने फोन पर यादृच्छिक यूआरएल प्राप्त करेंगे और उन्हें ५ रुपये प्रति लाइक्स जैसे भुगतान किया जाएगा।

इस प्रयोजन के लिए, उन्होंने अब्लेज़ का इस्तेमाल किया, जिसने अपने कार्यालय के लिए सेक्टर ६३ में चार मंजिला इमारत किराए पर ली। निवेशकों को बताया गया था कि वे अपने पंजीकृत बैंक खातों में मासिक भुगतान प्राप्त करेंगे। उन्हें यह भी बताया गया था कि अगर वे २१ दिनों के भीतर और अधिक ग्राहकों को लायेंगे, तो  उनकी आय में वृद्धि होगी। इस प्रक्रिया को ‘बूस्टर’ कहा जाता था और किसी भी अन्य पोंजी योजना की तरह, निवेशकों के पिरामिड का निर्माण करने में मदद की। गुरुवार तक, सदस्यता की संख्या लगभग ६.५ लाख तक पहुंच गई थी।

पुलिस ने कई लोगों से फीस का भुगतान न करने के बारे में शिकायतें प्राप्त करना शुरू कर दिया था, जिस पर ३१ जनवरी को सूरजपुर पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इसके बाद यह मामला एसटीएफ को सौंप दिया गया था। जांच के दौरान एसटीएफ ने पाया कि लगभग १ लाख लोगों ने ईमेल और टेक्स्ट मैसेज पर शिकायत दर्ज कराई थी ताकि बकाए का भुगतान नहीं किया जा सके।

Comments

You may also like

‘रइस’ की “लैला गर्ल” को अब चिंता करने की है जरूरत ।
Loading...