प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देकर फंस गए “मौन”मोहन, – दि फिअरलेस इंडियन
Home / समाचार / प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देकर फंस गए “मौन”मोहन,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देकर फंस गए “मौन”मोहन,

  • hindiadmin
  • April 20, 2018
Follow us on

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक इंटरव्यू में कहा था कि पीएम मोदी मुझे बोलने की सलाह देते थे, अब खुद तो उस पर अमल करें। लगता है पीएम मोदी ने मनमोहन सिंह की सुन ली और उसका जवाब पूरे मन से दिया। उन्होंने चंद सवालों का जवाब मांगा था, पीएम मोदी ने ढाई घंटों तक लगातार जवाब दिए। लंदन में भी ‘भारत की बात’ करके दिखा दिया, देश का झंडा गाड़ दिया। उन्होंने एक से बढ़कर एक सवालों के जवाब इस अंदाज में दिए कि सभी कांग्रेसी हैरान हैं।

दांव उल्टा पड़ा तो सारे कांग्रेसी मनमोहन सिंह पर ‘हाथ’ धोकर पीछे पड़े हैं। मनमोहन सिंह पर सारा दोष मढ़ रहे हैं। कह रहे हैं कि आप तो ‘मौन’मोहन थे, फिर मनमोहन बनने की कोशिश क्यों की? उन्हें खूब सुना भी रहे हैं। कह रहे हैं कि क्या जरुरत थी मोदी को बोलने की, चुनौती देने की! लो अब सुनो, सुनते ही रहो!

मनमोहन सिंह को ‘हड़का’ रहे कांग्रेसी
मौनी मनमोहन सिंह ने जुबान क्या खोली, कांग्रेसियों की तो बोलती ही बंद कर दी है। कांग्रेसियों को लग रहा है कि इतनी जुगत लगा कर लिंगायतों को बांटा था, समाज में फूट डाली थी, हिंदू-मुस्लिम किया था, पैसों की कई खेप भेजी थी। सारे किये कराये पर पानी फिर गया। कर्नाटक चुनाव आने वाला है और चुनौती दे दी तो अब झेलो, एक के बाद एक सात दिनों में 14 भाषण सुनो। 29 अप्रैल, 1, 3, 5, 6, 7 और 8 मई को कर्नाटक में होंगे और रोज दो जनसभाएं करेंगे। अब सुनते रहिये मनमोहन सिंह जी। सबका साथ-सबका विकास से वे हमारी सारी साजिश की मिट्टी पलीद कर देंगे।

न्यूज चैनलों में मच गई बड़ी खलबली
कांग्रेस में तो कोहराम है, लेकिन असली खलबली तो न्यूज चैनल वालों के बीच मची है। दरअसल हर 5 मिनट में ब्रेक लेने वाले चैनलों की कमाई पर सीधा असर पड़ गया, ढाई घंटे तक लगातार बिना ब्रेक के मोदी जी को लाइव दिखाना पड़ा, करोड़ों का नुकसान हो गया। टीआरपी तो बढ़ी लेकिन कमाई? चैनल वाले भी मनमोहन सिंह को कोस रहे हैं और कह रहे हैं कि अब जुबान मत खोलिएगा ‘मौन’मोहन सिंह जी! पहले मोदी जी ने हमारी सुनी थी और एक-सवा घंटे के भाषण को उन्होंने खुद 40 मिनट तक सीमित करने की बात कही थी, लेकिन आपने चुनौती दी तो ढाई घंटे तक बोल गए।

मनमोहन को कोस रहे पीएमओ के पूर्व अधिकारी
पीएम मोदी के भाषण के बाद अंदर की खबर तो ये है कि पीएमओ के अधिकारियों में भी गुस्सा है। पीएमओ के लोग अपने पूर्व अधिकारियों के फोन लगातार घनघना रहे हैं, कह रहे हैं कि वे मनमोहन सिंह को समझाएं। वे मनमोहन सिंह जी से अपील कर रहे हैं कि आप मोदी जी को चुनौती देने की फिर से भूल न कीजिएगा! पीएम मोदी को तो सिर्फ देश सूझता है, लेकिन हमारा तो परिवार है, समाज है, फुरसत ही नहीं मिल रही है। यहां तक कि टॉयलेट जाना और चाय-कॉफी पीना भी मुश्किल हो रहा है। पीएम मोदी के साथ पूरे पीएमओ को एक्टिव रहना पड़ता है। वे सवाल उठा रहे हैं कि- आखिर मनमोहन सिंह की गलतियों का खामियाजा हम क्यों भुगतें?

‘महाराज’ के आगे दंड बैठक कर रहे मनमोहन
मनमोहन सिंह सोच रहे हैं कि भला उनको क्या पता था कि वे जो कर रहे हैं उसका उल्टा असर हो जाएगा। वे तो केवल कांग्रेस की कारस्तानियों को छिपाने की कोशिश कर रहे थे। दूसरी ओर कांग्रेस के महाराज यानि राहुल गांधी भी खफा हैं। वे मनमोहन सिंह जी का लगातार क्लास ले रहे हैं। खबर तो ये भी है कि इस गलती के कारण बंद कमरे में ‘पापा जी’ (मनमोहन सिंह) को कान पकड़वाकर दंड बैठक तक करवाई जा रही है और कसम दिलाई जा रही है कि फिर से वे ऐसी गलती नहीं करेंगे! भाई बंद कमरे में दंड बैठक की पुष्टि हम नहीं कर रहे, लेकिन उड़ती-उड़ती खबर तो यही है।

सोनिया के दरबार में करबद्ध मनमोहन
ऐसी भी खबरें हैं कि राहुल के यहां दंड बैठक कर पापा जी (मनमोहन सिंह) सीधे सोनिया गांधी के दरबार में पहुंचे थे। पापा जी ने सोनिया जी से साफ कह दिया है कि वे उनकी तो सुन लेंगे, लेकिन राहुल गांधी के सामने दंड बैठक अब नहीं करेंगे। वे यह भी कह रहे हैं जीवन भर अपमान सहा है, लेकिन बुढ़ापे में तो बख्श दिया जाए। हालांकि सूत्रों से खबर है कि मनमोहन सिंह जी की ये मांग सोनिया के दरबार में खारिज हो गई है और कहा है कि गलती करिये या न करिये, आप को तो जिंदगीभर दंड बैठक लगानी ही पड़ेगी! अब क्या करें ‘मौन’मोहन जी, न चुप रहते बन रहा है और न बोलते!

मोदी के एक भाषण से पलटा सट्टा बाजार
मनमोहन सिंह जी के बोलने और मोदी जी के जवाब देने का सीधा असर कर्नाटक के चुनाव पर पड़ने जा रहा है। दरअसल कर्नाटक चुनाव में भाजपा की हालत खराब बता रहा सट्टा बाजार भी पलट गया है। कह रहा है कि बीजेपी को कम से कम 150 सीटें मिलेंगी, यानि बीजेपी अपने बलबूते पर सरकार बना लेगी। सट्टेबाजों ने बीजेपी के लिए प्रत्येक 10 रूपये पर 11 रूपये का दांव लगाया है। वहीं कांग्रेस सट्टेबाजों की दूसरी पसंद है। सट्टेबाज कांग्रेस पर एक रूपये के बदले  2.5 रूपये का रेट दे रहे हैं।

बहरहाल कांग्रेसी सोच में पड़े हैं कि ‘मौन’मोहन की गलती बड़ी भारी पड़ गई। एक गलती से बीजेपी बहुमत पार पहुंच गई है और दूसरी गलती की तो दो तिहाई न पहुंच जाएं। कांग्रेसी आपस में चर्चा कर रहे हैं कि अगर मोदी जी इसी तरह बोलते रहे तो 2019 तो छोड़ो 2024 भी भूल जाओ भाई!

Comments

You may also like

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती देकर फंस गए “मौन”मोहन,
Loading...