विरोधियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया करारा जवाब – दि फिअरलेस इंडियन
Home / तथ्य / विरोधियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया करारा जवाब

विरोधियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया करारा जवाब

  • hindiadmin
  • October 4, 2017
Follow us on

अर्थव्यवस्था से जुड़े आंकड़ों से बढ़ रही चिंता के बीच प्रधानमंत्री ने बुधवार को न सिर्फ पुरज़ोर पैरवी की बल्कि सरकार की आर्थिक नीतियों पर हमला करने वालों को अपने अंदाज़ में जवाब भी दिया. प्रधानमंत्री ने इस साल की पहली तिमाही में 5.7 फीसदी पर लुढ़की विकास दर को थामने और अर्थव्यवस्था को मज़बूत करने का दावा किया. उन्होंने पिछली सरकारों पर हमला बोलते हुए कहा कि इससे पहले 6 सालों में 8 बार ऐसे मौके आए जब विकास दर 5.7 या उससे नीचे आई. कंपनी सेक्रेटरीज़ के कार्यक्रम में पीएम ने आंकड़ों पर सवाल उठाने वालों को तीखा जवाब दिया. पीएम ने जीएसटी के मुद्दे पर कहा कि ज़रूरत पड़ी तो वो इसमें बदलाव के लिए भी तैयार है. इसके अलावा उन्होनें इमानदारों के हितों की हिफाज़त का दावा किया.

पीएम मोदी के भाषण की 12 बड़ी बातें-
1.पीएम मोदी ने कार्यक्रम में कहा कि नोटबंदी का फैसला लेने की हिम्मत सिर्फ हमारी सरकार ने दिखाई. उन्होंने कहा कि सरकार ने कालेधन के खिलाफ ‘स्वच्छता अभियान’ चलाया है.

2.पीएम मोदी ने कहा कि कुछ लोगों को निराशा फैलाने में बड़ा मजा आता है. उन्होंने कहा कि देश के विकास को विपरीत दिशा में ले जाने वाले पैरामीटर कुछ लोगों को पसंद आते थे और अब जबकि ये पैरामीटर सुधरे हैं और देश सही दिशा में आगे बढ़ रहा है, तो ऐसे लोगों को परेशानी हो रही है. ऐसे लोगों का अर्थव्यवस्था में विकास होता नहीं दिख रहा है.

3.पीएम मोदी ने कहा कि अब देश की अर्थव्यवस्था में ईमानदारी का नया दौर शुरू हुआ है. अब काले धन का लेन-देन करने से पहले लोगों को 50 बार सोचना पड़ता है.

4.पीएम ने कहा कि आज विदेशी निवेशक भारत में रिकॉर्ड निवेश कर रहे हैं. विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार इजाफा हो रहा है. यह सोचने की जरूरत है कि कुछ लोग देश हित साध रहे हैं या किसी और का हित.

5.पिछली सरकार के 6 साल में 8 बार ऐसे मौके आए जब विकास दर 5.7 प्रतिशत या उससे नीचे गिरी. देश की अर्थव्यवस्था ने ऐसे क्वार्टर्स भी देखे हैं, जब विकास दर 0.2 प्रतिशत, 1.5 प्रतिशत तक गिरी.

PM Modi institute of secretaries speech साठी प्रतिमा परिणाम

6.बदलती हुई देश की इस अर्थव्यवस्था में अब ईमानदारी को प्रीमियम मिलेगा, ईमानदारों के हितों की सुरक्षा की जाएगी.

7.मोदी ने कहा कि पिछले तीन वर्षों में 7.5 प्रतिशत की औसत ग्रोथ हासिल करने के बाद इस वर्ष अप्रैल-जून की तिमाही में GDP ग्रोथ में कमी दर्ज की गई, लेकिन ये बात भी उतनी ही सही है कि सरकार इस ट्रेंड को रिवर्स करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं. मेरे जैसे अर्थशास्त्र के कम जानकार को अब भी ये समझ नहीं आता कि उस समय बड़े-बड़े अर्थशास्त्रियों के रहते ऐसा कैसे हो गया था?

8.बदलती हुई देश की इस अर्थव्यवस्था में अब ईमानदारी को प्रीमियम मिलेगा, ईमानदारों के हितों की सुरक्षा की जाएगी.

9.मोदी ने कहा कि वित्तीय मामलों को लेकर हमारी आलोचना हुई है. हम कड़ी से कड़ी आलोचना भी दिल से स्वीकार करते हैं. हम संवेदनशील सरकार हैं. आलोचकों की हर बात गलत नहीं होती है, लेकिन देश में निराशा का माहौल पैदा करने से बचना चाहिए. दुनिया में भारत के प्रति विश्वास बनाएं.

10.प्रधानमंत्री ने कहा कि विदेश में जमा काले धन के लिए बहुत कठोर कानून बनाया गया है. पुराने टैक्स समझौतों में हमने बदलाव किया है.

11.जब दो लाख फर्जी कंपनियों को बंद किया, तो भी कोई बवाल नहीं हुआ और मोदी का पुतला नहीं जलाया गया. सीएस वादा करें कि साल 2022 तक देश में एक भी शेल कंपनियां नहीं रहेंगी.

12.मोदी ने यह भी कहा कि अगर जरूरत पड़ी, तो जीएसटी में बदलाव संभव है. जीएसटी काउंसिल इस पर विचार कर रही है. उन्होंने हम लकीर के फकीर नहीं हैं, न ही हम दावा करते हैं कि सारा ज्ञान हमारे पास ही है.

Comments

You may also like

विरोधियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया करारा जवाब
Loading...