दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों पर लगाई रोक – दि फिअरलेस इंडियन
Home / समाचार / दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों पर लगाई रोक

दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों पर लगाई रोक

  • hindiadmin
  • October 9, 2017
Follow us on

सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिल्ली-एनसीआर में इस साल दिवाली पर पटाखे जलाने पर पूर्ण रोक लगा दी गई है. कोर्ट ने पटाखों की बिक्री के खिलाफ सख्त निर्देश देते हुए पूरे एनसीआर में बिक्री प्रतिबंधित कर दी है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला कई लोगों के गले नहीं उतर रहा है, उन्हीं में से एक हैं चर्चित लेखक चेतन भगत. कोर्ट के फैसले पर ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा कि पटाखों के बिना बच्चों के लिए दिवाली कैसी?

चेतन ने यह सवाल भी उठाया कि हिंदुओं के त्योहारों के साथ ही ऐसा क्यों होता है? उन्होंने पूछा कि क्या बकरीद पर बकरे काटने और मुहर्रम पर खून बहाने के खिलाफ कदम उठाए जा रहे हैं?

दिवाली पर पटाखों को बैन किया जाना ऐसा है जैसे क्रिसमस पर क्रिसमस ट्री और बकरीद पर बकरे को बैन कर दिया जाना. उन्होंने आगे लिखा कि दिवाली पर बच्चों के हाथ से फुलझड़ी छीन ली गई. हैप्पी दिवाली मेरे दोस्त.

चेतन भगत ने कहा कि यदि आपको वातावरण की चिंता है तो आपको अपने घर में एक सप्ताह के लिए बिजली बंद कर देनी चाहिए, कारों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. आप किस आधार पर दूसरों की परंपराओं पर रोक लगा रहे हैं?

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को दिए अपने आदेश में दिल्ली-एनसीआर में पटाखों पर बैन लगा दिया था. कोर्ट ने अपने आदेश में 11 नवंबर 2016 का बिक्री पर रोक का आदेश फिर से बरकरार रखा है. कोर्ट ने सारे लाइसेंस स्‍थायी और अस्थायी रूप से तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिए हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये बैन 1 नवंबर 2017 तक बरकरार रहेगा. अदालत ने 12 सितंबर को द‌िए रोक के आदेश में बदलाव किया है.

अदालत के आदेश के अनुसार 1 नवंबर से पटाखे बिक सकेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक बार ये टेस्ट करना चाहते हैं कि दिवाली पर क्या हालात होंगे? बिक्री पर बैन लगाते हुए कहा कि दिवाली के बाद पटाखों पर बैन के प्रभाव से एयर क्वालिटी के बारे में भी पता लगाया जाएगा कि वहां कितना प्रदूषण का क्या स्तर रहता है और उसकी तुलना पिछले कुछ सालों के प्रदूषण के स्तर से भी किया जाएगा.

Comments

You may also like

दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों पर लगाई रोक
Loading...