इसी तरह भारत के ‘प्रेस्टिटयूट’ ने नागरिकों को हेरफेर किया है – दि फिअरलेस इंडियन
Home / विचार / इसी तरह भारत के ‘प्रेस्टिटयूट’ ने नागरिकों को हेरफेर किया है

इसी तरह भारत के ‘प्रेस्टिटयूट’ ने नागरिकों को हेरफेर किया है

  • hindiadmin
  • March 4, 2017
Follow us on

टाइम्स ऑफ इंडिया, एक प्रिंट मीडिया जो उद्योग में नंबर एक होने का दावा करता है, उन्होंने एक ऐसे व्यक्ति पर वास्तव में आश्चर्यजनक रूप से प्रकाशित किया है, जिस पर एक महिला, बेटी के बलात्कार का मामला दर्ज किया गया था.

अखबार ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की, ‘स्वामी ने महिला, बेटी को बलात्कार के लिए बुक किया’. भारत में संतों या स्वामी को भगवान के रूप में चित्रित किया जा रहा है, यह मीडिया घर अब एक नई प्रवृत्ति का निर्माण कर रहा है.

लेख का कहना है कि – एक महिला और उसकी 14 वर्षीय बेटी को एक वर्ष के लिए शहर के आधावा इलाके में बाबा द्वारा बलात्कार किया गया. नानपुरा के निवासी अक्मल ऊर्फ अक्मलबाबा रजा को आईपीसी की धारा 376 (1) (टी) (ए) और 506 (2) के तहत और साथ ही बच्चों के यौन अपराध कानून अधिनियम 4 (4) POCSO) पुलिस ने गिरफ्तार किया. द टाइम्स समूह में जवाहर लाल नेहरू और “टाइम्स ऑफ इंदिरा” के समय से शुरू हुए कांग्रेस के साथ गहन संबंध हैं. मीडिया में राजनीतिक स्वामित्व और कनेक्शन के कई अन्य उदाहरण हैं.

विकृत जनमत के मुख्य उद्देश्य के साथ यह कपटी और अनैतिक संबंध और राजनैतिक पार्टी के एजेंडे के अनुरूप मुद्दों को जोड़ तोड़ना इनका काम है. क्यूंकि यह तटस्थता की आड़ में किया जाता है, इसलिए खबरों को उपलब्ध कराने की इस तरह की व्यवस्था में धोखे का एक बड़ा तत्व है.  मुख्यधारा के मीडिया और राजनीतिक दलों के बीच इस तरह की गुप्त व्यवस्था से राजनीतिक दलों के अपराधों के प्रति एक निश्चित राशि दी जा सकती है.

मीडिया एजेंसियों के सहायक और सहिष्णु रवैये की वजह से इस तरह के व्यवहार में कोई गलती नहीं पाई, राजनीतिक दल व्यापक दिन के उजाले में देश की संभावनाओं को नुकसान पहुंचाने के साथ दूर हो जाते हैं. समस्या तब होती है जब टीओआई जैसी मुख्य धारा की मीडिया एजेंसियां ​​तटस्थता की ढूढ़ के नीचे छिपी राजनीतिक एजेंडा और उद्देश्यों को उजागर करने के लिए अपने समाचार मंच का उपयोग करती हैं. आप इस बारे में क्या सोचते हैं? अपका मत हमें बताओ

 

Comments

You may also like

इसी तरह भारत के ‘प्रेस्टिटयूट’ ने नागरिकों को हेरफेर किया है
Loading...