७०वें स्वतंत्रता दिवस पर भारत को डेडीकेट किया जाएगा दुबई में बना यह “दंगल केक” – दि फिअरलेस इंडियन
Home / विचार / ७०वें स्वतंत्रता दिवस पर भारत को डेडीकेट किया जाएगा दुबई में बना यह “दंगल केक”

७०वें स्वतंत्रता दिवस पर भारत को डेडीकेट किया जाएगा दुबई में बना यह “दंगल केक”

  • hindiadmin
  • August 12, 2017
Follow us on

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर आमिर खान की फिल्म ‘दंगल’ ने दुनियाभर में फेमस हुई थी इतना ही नहीं दर्शकों को यह फिल्म बेहद पसंद आई थी और इस फिल्म ने दर्शकों का दिल जीत लिया था. अभी हाल ही में मिली जानकारी के मुताबिक दुबई में दंगल स्पेशल केक बनाया गया है, जिस केक की कीमत २५ लाख रुपये बताई जा रही है. बता दें कि जिस बेकरी में इस केक को तैयार किया गया है उनका दावा है कि यह केक दुनिया का सबसे महंगा केक है. दुबई की बेकरी में तैयार हुए इस के‍क की कीमत २५ लाख रुपये बताई जा रही है. यह केक को भारत के ७०वें स्वतंत्रा दिवस पर देश को डेडिकेट किया जाएगा.

बताया जा रहा है कि इस केक को बनाने में करीब एक महीने का वक्त लगा है. इस केक को १२०० से ज्यादा लोगों ने मिलकर तैयार किया है. केक को बनाने में ४० हजार डॉलर यानी करीब २५ लाख रुपए का खर्च आया है. इस केक में बॉलीवुड की ब्लॉकबस्टर हिट फिल्म दंगल के एक सीन की झलक दिखाई गई है. केक में फिल्म के किरदार महावीर फोगट को उनकी बेटियों के साथ दिखाया गया है. फिल्म में महावीर फोगट के किरदार अदा करने वाले शानदार एक्टर आमिर खान को केकनुमा अंदाज में देखना मजेदार है.

ब्रॉडवे नाम की बेकरी में तैयार किए गए इस केक के बारे में बेकरी ने फेसबुक पर एक वीडियो भी पोस्ट किया है. सूत्रों के मुताबिक, ग्राहकों ने केक में सोने का इस्तेमाल करने की गुजारिश की थी जिसके चलते केक में लगे मेडल में असली सोन का इस्तेमाल किया गया. इस सोने के मे‍डल का वजन करीब ७५ ग्राम बताया जा रहा है. यही नहीं इस केक को करीब २४० लोगों को आराम से सर्व किया जा सकता है.

hd image of दंगल केक दुबई साठी प्रतिमा परिणाम

अगर विदेश में यह सब किया जा सकता है तो क्या हम अपने देश के स्वतंत्रता दिवस पर उसका मन नहीं रख सकते. आप सोच रहे होंगे में ऐसा क्यों बोल रहा हु; क्यों की क्या होता है हम अगले १४ अगस्त या स्वतंत्रता दिवस पर ही झंडे खरीदते है और फिर क्या होता है ये आप सबको तो पता ही है. सब समारोह खत्म हो जाने के बाद वहीं झंडे हमें रास्ते पर मिले पड़ते है. ऐसा क्यों होता है? क्या हमारे लिए हमारी देश की स्वतंत्रता कुछ चन मिनिटों के लिए ही है क्या? क्या इसलिए हम झंडे खरीदते है? हम अपने देश का मान रखने के लिए यह सब रोख नहीं सकते. बिलकुल रोक सकते है. पर कोई करना नहीं चाहता? क्यों की उन लोगों को लगता है यह आजादी अंग्रेजो की देन है. पर नहीं! क्या उन्हें नहीं पता भारत के स्वतंत्रता सेनानियों अपने देश की आजादी के लिए अपनी जान तक दाव पर लगा दी. क्या हम इन महान स्वतंत्रता सेनानियों के लिए इतना भी नहीं कर सकते. चलो तो इस स्वतंत्रता दिवस पर हम अपने देश के झंडे का किसीको अपमान नहीं करने देंगे और स्वतंत्रता का मतलब केवल सामाजिक और आर्थिक स्वतंत्रता न होकर एक वादे का भी निर्वाह करना है कि हम अपने देश को विकास की ऊँचाइयों तक ले जायेंगें. भारत की गरिमा और सम्मान को सदैव अपने से बढकर समझेगें. स्वच्छ भारत, गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, सम्प्रदाय और जातिवाद मुक्त एक नए भारत के निर्माण का संकल्प करेंगे.
जय हिन्द!!

Comments

You may also like

७०वें स्वतंत्रता दिवस पर भारत को डेडीकेट किया जाएगा दुबई में बना यह “दंगल केक”
Loading...