…तो क्या इस वजह से भगवान गणेश को एकदंत कहा जाता है – दि फिअरलेस इंडियन
Home / तथ्य / …तो क्या इस वजह से भगवान गणेश को एकदंत कहा जाता है

…तो क्या इस वजह से भगवान गणेश को एकदंत कहा जाता है

  • hindiadmin
  • August 24, 2017
Follow us on

गणेशजी को एकदंत कहते हैं यह बात सभी जानते हैं. लेकिन इसके पीछे क्या कारण है. इस बारे में बहुत ही कम लोगों को पता होगा. आज लोगों की जानकारी बढ़ाने के लिए हम आपको कुछ छोटी-छोटी कहानियां बताते हैं. भव‌िष्य पुराण की कथा के अनुसार गणेश जी ने अपने नटखटपन से कुमार कार्त‌िकेय को परेशान कर द‌िया. क्रोध‌ित होकर कार्त‌िक ने गणेश जी का एक दांत तोड़ द‌िया. जब गणेश जी ने इसकी श‌िकायत भगवान श‌िव से की तो कुमार कार्त‌िकेय ने दांत गणेश जी को वापस कर द‌िया लेक‌िन एक शाप भी दे द‌िया क‌ि गणेश जी को अपने हाथ में हमेशा दांत पकड़े रहना होगा. अपने से दांत अलग करने पर गणेश जी भष्म हो जाएंगे.

महाभारत लिखने को तोड़ा दांत-
गणेश जी के दांत टूटने की तीसरी कथा है क‌ि जब महर्ष‌ि वेदव्यास जी महाभारत ल‌िखने के ल‌िए गणेश जी से अनुरोध क‌िया तो गणेश जी इसके ल‌िए मान गए लेक‌िन एक शर्त रख दी क‌ि महाभारत ल‌िखते समय मेरी लेखनी रुकनी नहीं चाह‌िए अगर मेरी लेखनी रुकी तो मैं आगे ल‌िखना बंद कर दूंगा. व्यास जी ने शर्त मान ली लेक‌िन एक शर्त उन्होंने भी रख दी क‌ि आप मुझसे पूछे ब‌िना एक शब्द भी नहीं ल‌िखेंगे. गणेश जी ने व्यास जी की महाभारत जल्दी ल‌िखने के ल‌िए अपनी एक दांत को लेखनी बना ल‌िया. लेक‌िन व्यास जी की चतुराई के कारण गणेश जी को पूरी महाभारत ल‌िखनी पड़ी.

परशुराम से युद्ध में टूटा दांत-
एक बार शिव जी से मिलने के लिए भगवान परशुराम कैलाश आए, लेकिन द्वार पर खड़े गणेश ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया. परशुराम के बार-बार विनती करने पर भी गणेशजी नहीं माने. अंत में परशुराम ने गणेश जी को युद्ध के लिए ललकारा. इस दौरान परशुराम के फरसे के वार से गणेश जी का एक दांत टूट गया और वह एक दंत कहलाए.

असुर का वध करने के लिए तोड़ा दांत-
एक पौराणिक कथा के अनुसार, गजमुखासुर नामक एक असुर से गजानन का युद्ध हुआ. गजमुखासुर को यह वरदान प्राप्त था कि वह किसी अस्त्र से नहीं मर सकता. ऐसे में वह खुद को अजेय और अमर समझकर देवताओं और ऋषियों को परेशान करने लगा. तब गणेश जी ने अपनी सूझ-बूझ का इस्तेमाल कर मारने के लिए अपने एक दांत को तोड़ा और गजमुखासुर पर वार किया. गजमुखासुर इससे घबरा गया और मूषक बनकर भागने लगा. गणेश जी ने इसे अपने पाश से बांध ल‌िया और उसे अपना वाहन बना ल‌िया.

Comments

You may also like

…तो क्या इस वजह से भगवान गणेश को एकदंत कहा जाता है
Loading...