योगी सरकार: पूरे राज्य में छायी भगवा गमछों की बहार – दि फिअरलेस इंडियन
Home / विचार / योगी सरकार: पूरे राज्य में छायी भगवा गमछों की बहार

योगी सरकार: पूरे राज्य में छायी भगवा गमछों की बहार

  • hindiadmin
  • May 23, 2017
Follow us on

अक्सर कोई ना कोई ट्रेंड किसी ना किसी वजह से मशहूर होता रहता है. चाहे वो गाड़ी हो या कपड़े फैशन है चल ही जाता है. कभी किस चीज का ट्रेंड आ जाएगा बता नहीँ सकते. और हा उसे भला कोई कैसे रोकेगा. इसी तरह का फैशन राजनीती में भी दिखाई देता है. जैसे कि, सरकार के बदलते ही गाड़ियों के झंडे बदल जाया करते हैं, और सत्ताधारी दल चहुंओर दिखाई पड़ने लग जाता है, किसी का रोब बढ़ता है, तो किसी का तेवर बदल जाता है, लेकिन उत्तर प्रदेश में प्रचंड बहुमत हासिल कर बनी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकार के बाद एक अलग ही ट्रेंड नज़र आ रहा है. यह ट्रेंड है भगवा रंग के गमछे का. वैसे, राज्य में गर्मियों का मौसम आते ही सफेद और लाल छींटदार गमछे नज़र आते ही थे, लेकिन इस साल भगवा गमछों की बहार है.

आजकल हर किसी के गले में भगवा गमछा ही नज़र आ रहा है, सो, इसकी बिक्री भी बाज़ार में खासी बढ़ गई है. यही नहीं, गमछे के इस चलन को अपराधी भी ढाल की तरह इस्तेमाल करने लगे हैं, और इसी गमछे को पहन लूट की कई घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं.

बनारस में चाय की एक दुकान पर पहुंचे कुछ युवकों में से हर किसी के गले में गमछा दिखाई दिया. इनमें से किसी ने गले में गमछा डाला है, तो किसी ने कंधे पर, और कुछ तो इसे पगड़ी की तरह सिर पर बांधे हुए हैं. गमछा पहनने का सबका स्टाइल भले ही अलग है, लेकिन रंग सभी का एक ही है. भगवा या केसरिया. पहली नज़र में ये सभी युवक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संगठन हिन्दू युवा वाहिनी के सदस्यों जैसे वेश में दिख रहे हैं, लेकिन ऐसा है नहीं. ये सभी युवक बीजेपी से जुड़े हुए ज़रूर हैं, लेकिन इससे पहले बीजेपी में भी भगवा गमछे का चलन इतना ज़्यादा कभी नज़र नहीं आया. लेकिन अब, योगी आदित्यनाथ सरकार के गठन के बाद इस गमछे का ज़ोरदार चलन नज़र आ रहा है.

HD Image of bhagwa gamachha fashion in UP साठी प्रतिमा परिणाम
चाय की दुकानों पर ही नहीं, डिज़ाइनर कपड़ों की एक दुकान में भी भगवा गमछे का ट्रेंड साफ दिखाई दे रहा है. हमारे कुछ साथी एक दुकान पर पहुंचे, एक युवा जोड़ा अपने लिए भगवा रंग का स्टोल ही देख रहा था. लड़की भगवा दुपट्टा पहनकर खुद को निहार रही थी, और उन्होंने वही खरीदे भी. दुकानदार ने बताया कि भगवा इन दिनों फैशन में है, और योगी सरकार के आने के बाद सभी को यही खरीदने की इच्छा है.

बनारस की सड़कों पर भी भगवा गमछा ही छाया हुआ है. सड़कों पर चलने वाले कितने ही लोग इसे पहने दिख रहे हैं. हाल ऐसा है कि रिक्शावाला, ठेलेवाला, ऑटोवाला, टैम्पोवाला और यहां तक कि समाजवादी पार्टी के समर्थक माने जाने वाले यादव बिरादरी के कई लोग भी सिर पर भगवा गमछा बांधकर गाय-भैंस दुह रहे हैं. इस ज़ोरदार चलन की वजह से बाज़ारों में भगवा गमछे कम पड़ गए हैं, और कुछ दिन पहले तक ५०-६० रुपये में मिल जाने वाला गमछा अब १००-१०० रुपये में भी मुश्किल से मिल पा रहा है.

उत्तर प्रदेश में गमछे का कारोबार मुख्यतः कानपुर से होता है. दरअसल, ये गमछे मऊ, खैराबाद, फ़ैज़ाबाद, जलालपुर, मालीपुर, इटावा, फ़ैज़ाबाद में बनते हैं और कानपुर के बाज़ार के ज़रिये राज्य के बड़े इलाके में सप्लाई होते हैं. लेकिन योगी सरकार के आने के बाद इनकी मांग इतनी बढ़ी कि राजस्थान के नागौर और चेन्नई के इरोड से भी भगवा गमछों को बड़े पैमाने पर मंगवाया जा रहा है.

वैसे, जब कोई चीज़ इतने धड़ल्ले से फैशन में आ जाएगी, तो अपराधी भी पीछे नहीं रहते. पिछले कुछ दिनों में कई अपराधियों ने भगवा गमछे को ढाल बनाने की कोशिश की. हाल ही में बनारस में ज़ेवरात की एक दुकान में लूट की वारदात हुई, जहां अपराधी इसी रंग का गमछा पहनकर आया था. राह चलते छीनाझपटी की कुछ घटनाओं में भी भगवा गमछा पहने अपराधी सक्रिय नज़र आए. पुलिस इसे गंभीरता से ले रही है.

Comments

You may also like

योगी सरकार: पूरे राज्य में छायी भगवा गमछों की बहार
Loading...